awakening · enlightenment · Karmalogist · Moksha · Shunyapanth · Soul · Spiritual · Spirituality · Uncategorized · vijay batra

Follow Karmalogist for spiritual awakening with knowledge.

Spiritual practices are incomplete if you are doing same as others, you will also be confused like them because your available information is incomplete. To get something different and unique you need to learn different from books.

Spirituality is not religion. Perceiving spirituality as religion or religion as spirituality can cause fear and confusion. Only religion-less knowledge will eradicate your dependency on outer world and create light within. Spiritual development is never possible without worldly detachment. If you are being spiritual to gain worldly things then you are on wrong path. Worldly failure is the symptom of success in spiritual world.

Spirituality is for soul and religion is for body. You need to change your path, if you are practicing spirituality with body and religion with soul. There is no need to learn how to attach with the soul, if you know how to detach from the body (world).

Spirituality does not preach to leave everything; it only helps to understand what is to be adopted and what is to be avoided in the world.

Follow Vijay Batra Karmalogist for spiritual awakening with knowledge.

Vijay Batra Karmalogist : Spiritual Coach

Founder of ShunyaPanth & Napoo Foundation

 

 

 

Blog · divine · education · enlightenment · Karmalogist · life coach · Moksha · Napoo · Shunyapanth · speaker · Spiritual · Spirituality · Teacher · Uncategorized · vijay batra · Vijaybatra

Identification of Guru – Author Vijay Batra Karmalogist

Identifying Guru

 Author : Vijay Batra Karmalogist

The word Guru conjures hope and positivity. It is said that a man who enjoys his Guru’s grace has no need to fear. Guru’s grace gives you a sense of being under constant protection from problems. All his work gets done without any hindrance and all the sins he commits knowingly or unknowingly get pardoned by his Guru. A man’s faith in his guru is stronger than his faith in gods and goddesses because he believes that his guru will do what gods and goddesses cannot do. One reason for this unwavering faith is the fact that a guru is a living entity unlike gods and goddesses. A person can talk and confide into his guru and seek solutions for his problems. A guru’s place in a person’s life is determined by the level of faith and devotion he has towards his guru. When a person’s faith and devotion and his guru’s level are on equal level, the hardest of things in the world can be done with incredible ease.

Every person in this world is both a guru and a student because we all directly or indirectly teach something to one another. But everyone is looking for a guru who will impart worldly and spiritual knowledge. But today finding a genuine guru seems impossible because of so many beliefs and superstitions. But it is not that there are no genuine gurus in the world.  But today the human mind is confused and there is a lack of proper knowledge. We do not find any similarity between the guru described in ancient texts and the present gurus.  The attributes are opposite of what is mentioned in the texts. We find false gurus in every nook and corner. These so called gurus mould themselves to fit the description given in books. It is because of such fake gurus that religion has been heavily diluted by superstition so much so that the ordinary person fears being religious or spiritual. Everyone is aware of the exploitation of the ordinary people in the name of faith and devotion.

Today people are more intelligent compared to ancient times. People have information on their fingertips thanks to internet and books. We have easy access to information and answers. But an ordinary person never finds the selfless and merciful guru that he envisages. So the common man is scared and confused. He ends up thinking that he is a sinner. He fears that his actions might become sinful and he might be banished to hell. The greed of heaven and the fear of hell are present in every religious person. But people violate religion for their personal gain. Everybody needs a true and selfless guru so that they don’t falter from the right path.

We all are told that we are born in human form after being born in 84 million forms. And these 84 million lives are on the basis of the sins that a human being has committed. Only a true guru will tell you that if you have suffered for your sins in 84 million lives then it is foolish and coward to consider yourself as a sinner in your actions in your past lives. You should live fearlessly and not in fear.

A guru also makes you understand that religion is good for worldly life. If a person follows a religious path, he will not indulge in deceit and this will help him avoid problems that come with results of such undesirable actions. But religion should not be taken as a medium to understand the formless (nirakar). We can know the formless only when we transcend worldly objects, relationships, habits, feelings and actions and enter a state of void (shunya). The formless has nothing to do with religion. Religion was made by man so that people would continue to follow certain rules for their body and soul. Religion is related to everything that is visible in this world. Spirituality is being connected to the formless without being dependent on any action, person, object or rules. Religion gives importance to place, time, rules, people etc whereas in spirituality these things do not mean anything. Understanding the void and being void is spirituality. The only difference between religion and spirituality is that the former thrives on fear while the latter is free from fear. Whether a person wants to become religious or spiritual depends on his own wish and the guru who imparts knowledge to him. It is only while we are at the guru’s feet that we realise that it is impossible to understand void with the help of the crutches of religion because spirituality comes only after you give up religion.

Only a genuine guru can give you the knowledge that only the soul becomes an asset of your actions. The body only experiences the results of the action. The body could belong to a human being or an animal. The body only experiences. But it is often said that whatever a person does through his body, he has to experience its results. There is no use going to a religious place when your soul (thoughts, attention) is at home. Performing actions without the soul is giving pain to your body. When you have experienced the fruits of your sins (which you committed earlier as a human being) in 84 million lives what are you scared about? Today, everyone wants to be liberated from fear and confusion. This is possible only if there is a guru who can give you the right knowledge and free you from superstitions and baseless notions.

Religion is for the world. Man created religion for his convenience. There are personal, familial and social religions. A guru must tell you how to abide by these religions. Spirituality is for the soul. It is the Guru’s job to tell you how you get the results of actions performed by the soul. The guru must be able to tell you how to save yourself from the results of your actions. Man’s mind is perturbed by religion and spirituality. He is not able to decide between right and wrong. That is why his mind is flooded with questions like why is there a need for a guru. What is the role of the guru? How should a guru be? How and where will I find the guru? What is the identity of guru? Why is the grace of the guru greater than that of gods and goddesses? Why isn’t there any pace without a guru etc?

Everyone is plagued by day to day problems. Everybody is looking for guidance and solution to their problems. They need the right answers. People know the right answers but they are scared and confused.  So they need someone who has god’s grace and who can change actions and their fruits. Somebody who has worldly and spiritual knowledge and is selfless. Someone who possesses worldly and spiritual knowledge and can peep into the past and the future. Someone who teaches you the technique to overcome problems and triumph over circumstances. A true and complete guru is the one who teaches such a technique to his student, a technique that will be useful while living and even after death.

Identity of Guru

A guru can be found anywhere. It is not necessary that a guru should look different or dress differently from ordinary people. A real guru will not be interested in outer appearance. He will neither be interested in being appreciated or being praised. All saints wearing yellow robes are not saintly. Some of them can be selfish too. There is a scientific reason behind wearing yellow robes but most saints are not aware about the reason. The colour of the sun is yellow. When the sun rises in the morning, family members start moving away from each other. The husband and wife leave the house to earn a livelihood while the children leave for school, college.  The family gets back together again after sunset. This makes it evident that sun deprives you of family pleasures. A saint wearing yellow robes means that he has given up family and he will stay away from people and worldly objects. Usually people indulge saints more than required in the hope of getting their blessings. Even a true saint may falter when he experiences worldly comforts and pleasures. Their sinful actions accumulate because when saints experience luxuries and comfort, they stray from their path and drift away from the formless.

The first indication of a true guru is that he is not controlled by a particular way of dressing or hypocrisy. He has radiance akin to the sun on his face. His sixth sense is fully developed because of which he can see the past, present and future. A true guru is happy to share his knowledge. He does not hide or suppress it. Everybody knows that we need money for survival. Asking for more money than required and without any reason is the sign of a greedy and selfish guru. A guru has no right to be selfish. Selfishness is for worldly aspirations. In spirituality, it is pertinent to sacrifice greed. And only a true guru can give you this knowledge.

For anyone to become a guru, it is necessary for him to have meritorious acts to his credit. If he has this, there is no need to run after worldly objects. In fact all the necessary things find a way to reach him. When a person is replete with a store house of noble deeds, he becomes humble and content. When a person is considered to be a guru, he has the responsibility to give proper guidance to his disciples and ordinary people. If a guru uses his knowledge to earn wealth and for personal gain then there is no pardon for him. He has to face punishment many times over as compared to an ordinary person because a guru has knowledge about sin and merit. An ordinary person can be forgiven and there are alternatives for him. But a guru is supposed to have knowledge and discern the good from the bad and he has more knowledge than an ordinary person.

A guru tells his disciple about both religion (worldly rules) and spirituality (formless). He gives an easy way to differentiate between the two and understand the formless. Most people consider themselves to be both religious and spiritual. But it is not like that. Religion is rule which helps to have a sense of organised set up in the world. Religion is for the world. There are different religious duties (rules) like duty towards parents, teachers, state, friends, kith and kin, etc. These duties or rules keep changing with time and requirement. Spirituality on the other hand is a state in which a person is free from all relationships, rules and he has knowledge of the formless. Spirituality has its relationship with the soul. That is why there are no rules in spirituality. And there is no inconvenience that compels it to change.

A guru is only meant to give. The words and actions of a guru help in the welfare of an individual/ he who takes for himself is not a true guru. A true guru does not discriminate on caste, sect or religion. He is only concerned with raising the spiritual level of people and guiding them. A guru does not take credit for his disciple’s success or fame. A guru makes his disciples do only those things which are in the interest of his disciple.  A guru’s greatness is more than that of gods and goddesses because the latter have only limited powers.  A person can worship a specific god or goddess depending on his need and desire whereas a guru is connected to the formless. Even an ordinary person can become a guru with good actions and selflessness. But if a disciple wants to become a guru then he will never become a complete guru. A true guru is one who can do everything selflessly.

A guru’s powers develop with the grace of god and good actions. His spiritual level also rises. The first power that a guru acquires is the power of words. Whatever he says starts coming true. So much so that a person starts getting things which otherwise is not in his destiny. Unimaginable things start happening. The power of touch develops after the power of words. One reason why we bow our heads to gurus is that the guru helps us to get rid of negative energies when he touches our forehead. The positive energies from the guru’s body enter the body of the person. This creates an invisible shield against ill effects of planets, accidents, enemies, evil eye, evil spirits etc.

The power of words and touch is for fulfilment of worldly desires. The guru keeps working for the welfare of the people which develops his cosmic energy.  This power is not for the world. It is a supernatural power which helps to connect with the formless. The ability to see the formless even with naked eyes without the help of statue, idol, picture, place, ritual etc is called cosmic energy which is sometimes used synonymously with kundalini. The effect of this power can be felt in the guru’s place even after his death. We can experience bliss and peace of mind when we feel the place or spot (where the guru used to sit or live) of a true guru even after his death. All the wishes we utter in such places come true.

When a guru possesses power of words, touch and cosmic energy, it makes him powerful and whatever he thinks or says comes true. These three powers are not vested in gods and goddesses because they do not have a human form to use the power of words and touch. They have limited powers. For instance, goddess Lakshmi is for wealth, Saraswati for knowledge etc. Things that are impossible to accomplish by worshipping gods can be accomplished with one sentence of the guru. That is why it is said that the guru has the master key which can unlock any lock. Even gods cannot refuse a guru because of his selflessness. Our intentional and unintentional actions can make gods, ancestors and spirits angry. Only the blessings and vision of the guru can put an end to the effects of their anger.

A guru has the right to give or take the accumulation of actions depending on his desire, need and the situation. A guru can bestow objects (which otherwise is not destined) if he is happy with a person’s devotion and love. Someone may be blessed with a child or someone may be cured of a chronic disease. If a person misuses his good actions then the guru has the right to transfer his good actions to somebody else. All worldly and spiritual desires can be fulfilled with the grace and blessings of a guru. A person needs a guru from time to time as guru is the only person who can teach things that cannot be found in books.

The modern age (kaliyug) is replete with gurus but there is a dearth of gurus who can show the right path. This makes it very difficult for the ordinary person to choose a guru. A true guru will never impart the technique of developing power and knowledge to his disciple easily fearing the disciple might misuse it. A guru imparts knowledge only when he is fully convinced that his disciple will not misuse his knowledge and the disciple knows how, when and where to use his knowledge. A guru will pass on his knowledge to his disciple only after putting him through several tests. A guru might even be rude with his disciple in the process. He might make the disciple undertake difficult work. If a disciple can prove his mettle then the guru will bless his disciple with knowledge. A guru gives knowledge that cannot be found in books and stories. But a guru gives knowledge only to the disciple who has interest, dedication and capability. A guru does not waste his time on those disciples who do not have capability. Capability is on the basis of actions. If a disciple has the capability then the guru will leave no stone unturned to ensure progress for his disciple. But not all disciples walk on the path shown by the guru as most people perform their actions according to their needs, ease and situation. Whoever works on the path of the guru do not face any pain or suffering in this world or hereafter.

A guru can assess his spiritual level and his level of engagement with the formless through the knowledge he gives to his disciple. A true guru will not give half baked knowledge to his disciple. He gives him complete knowledge. A guru teaches his disciple control of mind and heart so that the disciple does not feel threatened or confused when faced with a certain situation. A disciple should have patience and humility. It should be a part of his nature and not a result of situation. He should not crave for praise. A disciple should focus on his actions instead of depending on his fate. And the accumulation of his good actions should automatically attract everything he needs. A disciple though living in this world should not be so attached to a person or an object that it makes his salvation difficult. Everybody possesses worldly knowledge but only a guru develops spirituality in his disciple for which the disciple must remain ever indebted to his guru. The disciple must repay his guru to be free from this indebtedness. The knowledge received from a guru is priceless. A disciple makes an offering to the guru as per his ability. Sometimes the disciple even dedicates his entire life to his guru and feels blessed. But in today’s world there is a dearth of such gurus and disciples.

Knowledge can only make you knowledgeable. But a guru has spiritual knowledge. He also enjoys the grace of gods, goddesses and the formless. There is a big difference between worldly knowledge and spiritual knowledge. It is not necessary for a knowledgeable person to have spiritual knowledge. And it is not necessary for the guru either to have worldly knowledge. It is necessary to have worldly knowledge for worldly progress. Similarly, it is necessary to have spiritual knowledge for spiritual progress. But sometimes knowledgeable people are confined only to their knowledge because they do not enjoy the grace of understanding the formless. Excessive knowledge can lead to confusion. Only the guru has the master key called grace which can unlock worldly and spiritual locks. The guru if he desires can tell the disciple the way to acquire that key. The problem arises when the person tries to find the key or make the key on his own. The rule of the formless is that the key of grace can be acquired only through a guru. Half baked knowledge is akin to darkness. Grace and blessings work as light. No matter how much knowledge the guru gives, we must never be content because the guru has inexhaustible knowledge by grace of god.  We should never think that the guru has given us complete knowledge and grace.

Another secret knowledge given by the guru is that the same grace of the formless will not be equal on two different people. Everything in the world is unique – rivers, mountains, trees, animals etc. It is not the nature of the formless to imitate. Anything that is created once will not be created again. Man is the only animal that gets attracted seeing others and compels himself to imitate.

The relationship between a guru and disciple lasts forever. Once the relationship is established, it carries no for many lives. A guru himself goes to a disciple whose actions are strong and the results come on their own while an ordinary disciple has to search for a guru. Disciples are of many kinds. Some are devoted disciples who have tremendous devotion towards their guru. They abide by the words of their guru and serve their guru as the guru means everything to them. They experience an out of the world bliss when they are near to their guru. This kind of disciples has a soulful love for their guru.

Some disciples are cunning. They remember their guru only when they are in some difficulty. They prefer to stay away from their guru once their job is done. Such disciples live only for worldly pleasures. They have no interest in salvation or the formless. They presume that they will benefit by serving the guru a bit as the guru is born for them and not for his personal interest. The guru tells such disciples about ways to achieve worldly objects.

Some disciples are knowledgeable though their number is very low. These disciples understand the worth of their guru. They know that the guru’s anger and wrath is also beneficial for them. When a guru rebukes such disciples, the disciples know that the guru is helping them exhaust the effects of their bad karmas and the guru is preparing them for more spiritual development. A guru works very hard for the spiritual development of such disciples.

It is necessary for a person to have knowledge of the formless in order to attain salvation. And it is necessary for a person to be spiritual to have knowledge of the formless. It is essential to have the blessings and grace of a guru to be spiritual.

My Thoughts

  • Knowledge of salvation is possible only when the soul has knowledge of birth.
  • Worldly knowledge – knowledge from life to death. Knowledge of the formless- knowledge from death to life.
  • Don’t search for the truth. Try to search for falsehood. Once you have knowledge about the false, the knowledge of the formless will come on its own.
  • If you want change in your life, focus more on what you should not do rather than on what you should do.
  • The biggest superstition in the world is that the formless will be found in some form.
  • The most difficult thing in the world is to know your mind/ yourself.
  • Make your mind so busy in searching and learning so that it has no time or opportunity to commit sins.
  • Make your mind so stable that your focus is on the formless even while your eyes are open.
  • To mislead someone’s mind is a sin which has no atonement.
  • There is no need to run after what is in your destiny. There is no use running after what is not in your destiny.
  • The accumulation of your merits should be so much that there is a possibility of getting everything without asking but a need never arises to ask for anything.
  • Do not pay attention to others actions if you want to be free from envy.
  • Hearing your own praises is an invitation for ego/ arrogance.
  • It takes many lives to become spiritual from being religious. Adopting is religion, giving up is spirituality.
  • There is a big difference in having knowledge and having grace.
  • Do not run after things that you can do without.
  • A true guru is one who teaches the essence. A true disciple is one who does not aspire to be the guru.
  • A person’s spiritual knowledge is an indication of his guru’s level.
  • Guru has the master key which even gods and goddesses do not have.
  • To know how to make conversation and to have knowledge of the formless are two different things.
  • Only knowledge can release you from fear and confusion.
  • There is no greater merit than showing the right path.
  • No action is right or wrong. It is only the result that is right or wrong.
  • God! Make me void (zero) whoever I am with, let him grow ten times over.

Copyright © All rights reserved.

No part of this publication may be reproduced, distributed, or transmitted in any form or by any means, including photocopying, imitation in Hindi or any other language, speech and discourses, recording, or other electronic or mechanical methods.  Any violation will be an offence under the Copyright Act.

Vijay Batra Karmalogist

Founder : Shunya-Panth

ShunyaPanth is a non-religious spiritual community which believes in formless Almighty and does not depend on any Worldly form to attain the salvation. It is committed to open Shunya Centres around the world and providing divine Shunya-Gyaan to Shunya-Panthi through Shunya-Samhita.

 

astro · astro counseling · astro counselor · astrologer · astrology · awakening · Blog · Community · Counselling · course · Delhi · education · enlightenment · Healing · Karmalogist · life coach · Master · mentor · Moksha · Motivational Speaker · New Delhi · occult · Panth · Paschim Vihar · Path · program · quotes · Religion · Religious · Shunya · Shunyapanth · Soul · speaker · Spiritual · Spirituality · Uncategorized · vijay batra

उपायों का फल क्यों नहीं मिलता ? Karmalogist Vijay Batra

उपायों का फल क्यों नहीं मिलता ?

संसार का प्रत्येक व्यक्ति अपनी समस्याओं के समाधान के लिए अनेकों उपाय करता है परन्तु इनमे अधिकतर उपायों का कोई फल नहीं मिलता जिसके कारण किसी एक समस्या के लिए व्यक्ति बार-बार उपाय करता रहता है | कहा जाता है कि संसार में विश्वास से किया गया कोई भी कर्म निष्फल नहीं जाता, यदि ऐसा है तो फिर उपायों का फल क्यों नहीं मिलता क्योंकि हर उपाय पूरे विश्वास और श्रद्धा से किया जाता है |

अपना मन समझाने के लिए व्यक्ति स्वयं को अनेकों तर्क देता है जैसे इसी में कुछ भलाई होगी, ईश्वर को यही मंज़ूर होगा, अभी समय नहीं आया, इत्यादि | अपने मन को बहलाने से समस्या का समाधान नहीं होता, किसी इच्छित कार्य का पूरा होना समस्या का समाधान है | आइये इसे विस्तार से समझते है कि उपायों का फल क्यों नहीं मिलता |

किसी उपाय का लाभ होना या नहीं होना इस बात पर भी निर्भर करता है कि उपाय बताने वाले व्यक्ति को उपायों का कितना ज्ञान है | यदि उसके उपायों का आधार अपने जीवन काल में सुनी-सुनाई बातें या सस्ती पुस्तकीय जानकारी है तो ऐसे अधिकतर उपायों का लाभ नहीं मिलता है | उपाय का लाभ तभी मिलता है जब व्यक्ति को समस्या का कारण और उपाय के तर्क एवं वास्तविकता का ज्ञान हो |

यदि उपाय का तार्किक ज्ञान हो तो बड़ी से बड़ी समस्या के लिए छोटा सा उपाय भी काफी है | पूर्ण तार्किक ज्ञान होने के लिए किसी गुरु द्वारा दिव्यज्ञान मिलना या अपना निजी शोध होना अति आवश्यक है | हर व्यक्ति अपने आप को गुरु कहलाने के लिए अधिक से अधिक उपायों को तोड़-मरोड़ कर बताते है जिसके परिणाम से साधारण व्यक्ति के कार्य पूरे नहीं होने के साथ-साथ धन और समय हानि भी होती है |

मेरे पास ऐसे अनेकों लोग आते है जो अपने ठगे जाने की कहानियाँ सुनाते है, जिन्होंने अनेकों उपायों को श्रद्धा और विश्वास से किया परन्तु उनकी समस्याएं जस की तस रही | उपायों का फल नहीं मिलने पर अनेकों लोग उपायों और ईश्वर पर विश्वास करना बंद कर देते है | उपायों के सम्पूर्ण ज्ञान नहीं होने पर भी लोग दूसरों को अधिक से अधिक उपाय बता देते है जबकि ऐसे उपायों को करने से अधिकतर लोगो को केवल हानि ही होती है |

यदि आपको कोई भी व्यक्ति ऐसा उपाय बताता है जिसके तर्क का ज्ञान उसे नहीं है या वह व्यक्ति यह नहीं बता सके कि उपाय सकारात्मक परिणाम कैसे देगा तो ऐसे उपायों को बिलकुल भी नहीं करे, नहीं तो समस्या समाप्त होने के स्थान पर आपकी समस्या बढ़ सकती है | पिछले कई सालों में मैंने अनेकों शिष्यों को उपायों का तर्कज्ञान को सिखाया है जो मेरे निजी शोध का सार है | भारत और विदेशों में रहने वाले हजारों लोगो को उपायों के तर्कज्ञान होने से उनका धन और समय की हानि होने से बचाव भी हुआ है |

आपको कौन सा उपाय करना चाहिए और कौन सा उपाय नहीं करना चाहिए इसकी सम्पूर्ण जानकारी के लिए संपर्क करे, इसके अतिरिक्त किसी भी उपाय से सम्बंधित तर्कज्ञान  के लिए भी आप मुझे संपर्क कर सकते है |

Karmalogist Vijay Batra

Founder of ShunyaPanth

awakening · Blog · Community · Counselling · course · Dharma · divine · education · enlightenment · Karmalogist · life coach · Master · mentor · Moksha · Motivational Speaker · New Delhi · occult · Panth · quotes · Religion · Shunya · Shunyapanth · speaker · Spiritual · Spirituality · Uncategorized · vijay batra · Vijaybatra

Change Your Destiny Through Karma Education !

Change your destiny through Karma education !

Earlier, there were many unanswered questions without satisfactory answers like :

  • Why some are born poor and some rich?
  • Why some are ugly and some beautiful?
  • Why some are healthy and some are born disabled?
  • Why some are suffering and some enjoying luxurious life?
  • Why humans suffer when everything is done by God?
  • Why some get no benefits of their hard-work and some get everything without doing anything?
  • Why some are happy with nothing and some sad with everything?
  • Why certain things are sin for some people not for everyone?
  • Why negativity works stronger than positivity? Etc.

 

But now, we have logical answers for all such questions except saying it’s all by chance.  We have been observing that nothing is happening around just by chance. Maximum people of the world are confused about things like virtue-sin and right-wrong. Superstitions and stereotype beliefs cause immense emotional harm to the Karma of people. They need the right knowledge to eradicate and counter such superstitions and beliefs.

Karmalogist offers you an innovative learning called Karma education which will help you  to improve daily Karmas which are incorrectly performed because of superstitions and old beliefs. Karma Education by Karmalogist cannot be found in legendary and recognized books. This is quite different from other orthodox teachings and rituals and not available elsewhere.

 

 

About Karma and Spiritual Education :-

Spiritual practice is a very good way for spiritual growth, but, before practicing you must have the right wisdom to know if you will achieve your spiritual target through your practices. Spiritual practices are incomplete if you don’t have logic based wisdom of your spiritual queries.  To get something different and unique you need to learn different from legendary books.

If you are doing same as others, you will also be confused like them in your spiritual journey because your available information is incomplete. You can experience invisible divine power only when you have complete academic knowledge and guidance to develop your abilities.

Mr. Vijay Batra Karmalogist has been teaching Karma and Spiritual Education since many years,  which gives logic based answers to questions that are considered unanswerable such as :

  • Religion and Spirituality ●The theory of formless presence of God ●Birth of Soul and Types of Souls ● The working and types of Karmas. The factors affecting the consequences ●Real Meaning of Salvation and technique to attain it ●how to get rid of orthodox beliefs, fears, confusions etc. ●Worldly problems and circumstances ●Evil spirits and negativity ●Vision to recognize sin-virtue and right wrong according to spirituality.
  • No religious knowledge required
  • No books/writings/ notes required
  • No orthodox teachings
  • No traditional Practices

Individual facility is also available.

Call to join +91 – 9811677316

 

 

 

awakening · Blog · Community · course · Dharma · divine · education · enlightenment · Karmalogist · life coach · Master · mentor · Moksha · Motivational Speaker · New Delhi · occult · Panth · Path · program · quotes · Religion · Religious · Shunya · Shunyapanth · Soul · speaker · Spiritual · Spirituality · Uncategorized · vijay batra · Vijaybatra

गुरु की पहचान – Vijay Batra Karmalogist

गुरु की पहचान

लेखक : विजय बतरा Karmalogist

गुरु शब्द में बहुत सारी आशा और सकारात्मकता है, ऐसा कहा भी जाता है कि जिसके सिर पर उसके गुरु का हाथ है उसको भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है | गुरु होने पर व्यक्ति को लगता है कि उसके सिर पर ऐसी छत्रछाया है जिसके कारण वह सभी प्रकार की समस्याओं और अनहोनियों से सुरक्षित है, उसके सभी कार्य निर्विघ्न(बिना रूकावट) हो जायेंगे और उसके द्वारा जाने-अनजाने हो गए सभी पापों को गुरु क्षमा करेंगे और उसे बुरे कर्मों के दंड का सामना नहीं करना पड़ेगा |  गुरु पर विश्वास करने वाले व्यक्ति की श्रद्धा देवी देवताओं पर होने वाली श्रद्धा से अधिक होती है क्योंकि उसके अंतर्मन में यह निश्चित होता है कि जो कार्य देवी देवता भी नहीं कर सकते वह मेरा गुरु कर सकता है इसका एक कारण यह भी है कि देवी देवता उसके सामने नहीं है जबकि गुरु से वह अपने मन की बात करके अपनी इच्छा या समस्या का समाधान पा सकता है | प्रत्येक व्यक्ति की अपनी श्रद्धा और विश्वास पर निर्भर करता है कि उसके मन में उसके गुरु का क्या स्तर है | जब व्यक्ति की श्रद्धा, विश्वास और उसके गुरु का स्तर तीनो मिल जाते है तो संसार का हर असंभव कार्य बड़ी सरलता से हो जाता है |

ऐसे तो संसार में हर व्यक्ति गुरु और शिष्य दोनों है क्योंकि सभी लोग एक दूसरे को प्रत्यक्ष-अप्रयक्ष रूप से बहुत कुछ सिखाते है, फिर भी प्रत्येक व्यक्ति एक ऐसे गुरु की तलाश में है जो उसे सांसारिक और अध्यात्मिक ज्ञान देकर कृतार्थ करे | अनेक प्रकार की  मान्यताओं और अंधविश्वासों के कारण आज संसार में सच्चे गुरु की पहचान होना या सच्चे गुरू का मिलना असंभव सा लगता है परन्तु ऐसा नहीं है कि सच्चे गुरु संसार में नहीं है यदि ऐसा होता तो आज संसार में धर्म या आध्यात्म की कोई बात ना हो रही होती | यह एक अलग बात है कि साधारण व्यक्ति को ज्ञान की कमी और गुरु के बारे में उसकी जानकारी के कारण भ्रम की स्थिति बनी रहती है क्योंकि किताबों में गुरु के बारे में जो लिखा हुआ है वर्तमान गुरु उसके बिलकुल विपरीत दिखता है | वेशभूषा और किताबी बातों द्वारा स्वयं को गुरु बता कर दिशाहीन और भयभीत करने वाले गुरु हर स्थान पर मिलते है जिनके पास स्वयंज्ञान नहीं है, ऐसे लोगो के कारण ही धर्म(नियम) में इतना अंधविश्वास मिश्रित हो चुका है कि अब साधारण व्यक्ति धार्मिक या आध्यात्मिक होने से भी डरता है | सभी को भली प्रकार से पता है धर्म की आड़ में साधारण व्यक्ति की श्रद्धा और विश्वास का किस प्रकार से शोषण होता है |

प्राचीनकाल की तुलना में आज का व्यक्ति अधिक समझदार है और इसके पास जानकारी के लिए इन्टरनेट और पुस्तकों के अथाह सागर है जिसमें उसके सभी प्रश्नों के उत्तर है परन्तु परिवार और बाहरी जानकारी के अनुसार उसके मन में जो निस्वार्थ और कृपालु गुरु की छवि है वैसा गुरु उसे कहीं नहीं मिलता जिसके कारण आज का व्यक्ति सही-गलत और पाप-पुण्य को लेकर बहुत अधिक भ्रमित और भयभीत है | परिवार से मिले धर्म-संस्कारों पर चलने पर व्यक्ति अपने आपको पापी और गुनाहगार समझता है, हर कार्य करने के साथ वह भय और भ्रम की स्थिति में रहता है कि कहीं उसके द्वारा किया कोई कार्य पाप ना हो या किसी की आत्मा को कष्ट ना हो जाये जिससे मुझे दंड में नरक भुगतना पड़े | स्वर्ग की लालसा और नरक का भय सभी धार्मिक व्यक्तियों में है, परन्तु फिर भी अपनी सुविधा और आवश्यकता को पूरी करने के लिए व्यक्ति धर्म(नियम) की उलंघना करता है | सही मार्ग से व्यक्ति का मन नहीं भटके इसीलिए ही सभी को एक सच्चे और निस्वार्थी गुरु की आवश्यकता है |

सभी व्यक्तियों को धर्म में यह बताया जाता है कि मनुष्य का जन्म चौरासी लाख प्रकार के जन्मो के बाद मिलता है मनुष्य जन्म में जो भी पाप किये होते है उसके बदले चौरासी लाख प्रकार के जीव जंतुओं के जन्म मिलते है । केवल गुरु इस बात का ज्ञान देता है कि जब पिछले मनुष्य जन्म के पापों के बदले चौरासी लाख प्रकार के जन्मो का भुगतान कर लिया है तभी यह जन्म मिला है तो मनुष्य बनते ही अपने आप को पिछले जन्मो के कर्मो का पापी मानना मूर्खता व कायरता है और संसार में भयभीत होकर नहीं भयमुक्त होकर रहना है |

गुरु द्वारा यह भी समझाया जाता है कि सांसारिक जीवन के लिए धर्म अच्छा है, यदि व्यक्ति धर्म से चलेगा तो किसी के साथ कोई छल-कपट नहीं करेगा जिससे पापकर्म कम बनेंगे और उसके जीवन में कर्मफल से आने वाली समस्याओं का अवसर कम होगा, परन्तु धर्म निराकार को समझने के लिए नहीं है । निराकार को तभी जान सकते है जब सभी सांसारिक वस्तुओं, संबंधों, आदतों, भावनाओं, कर्मों को छोड़ कर शून्य की अवस्था आयेगी । निराकार का धर्म से कोई लेना देना नहीं है, धर्म मनुष्य ने बनाया है जिससे आत्मा और शरीर को  नियम में चलने का अभ्यास बना रहे । संसार में साकार (दिखने वाला सभी कुछ) से सम्बंधित नियम धर्म है और किसी कर्म, वस्तु, व्यक्ति, नियम पर निर्भर रहे बिना निराकार से जुड़े रहना आध्यात्म है । धर्म में स्थान, समय, नियम, व्यक्ति इत्यादि को महत्त्व दिया जाता है जबकि आध्यात्म में किसी भी व्यक्ति, स्थान, वस्तु और नियम का कोई महत्त्व नहीं है, शून्य को समझना और शून्य होना ही आध्यात्म है । धर्म और आध्यात्म में यही अंतर है कि धर्म भययुक्त है और आध्यात्म भयमुक्त है, व्यक्ति ने धार्मिक बनना है या अध्यात्मिक बनना है यह उसकी स्वयं की इच्छा और उसे ज्ञान देने वाले गुरु पर निर्भर करता है । केवल गुरु की शरण में रह कर ही यह सीखा जा सकता है कि धर्म की बैसाखी का सहारा लेकर निराकार को समझना असंभव है क्योकि धर्म का त्याग करके ही आध्यात्मिक बना जा सकता है ।

ऐसा ज्ञान एक सच्चे गुरु द्वारा ही मिलता है कि कर्मों की पूँजी केवल आत्मा बनती है शरीर से कोई कर्म नहीं बनता और उनके फल शरीर द्वारा भोगे जाते है, वह शरीर मनुष्य का हो या किसी जीव जंतु का हो शरीर भोगने के लिए है जबकि प्राय: यह कहा जाता है कि व्यक्ति शरीर से जो भी करता है उसी का फल भुगतना पड़ता है |  धार्मिक स्थान पर जाकर भी व्यक्ति की आत्मा (ध्यान/विचार) घर पर है तो वहां जाने का कोई लाभ नहीं है बिना आत्मा के कर्म करना शरीर को कष्ट देना है | पिछले मनुष्य जन्म के पाप भी व्यक्ति ने चौरासी लाख प्रकार के जन्म लेकर ही भोगे थे तो आज व्यक्ति किस बात से डरता है । आज प्रत्येक व्यकि अपनी क्षमता और उपलब्धता के अनुसार भ्रम और भय से मुक्ति की खोज में लगा हुआ है परन्तु भ्रम और भय से  मुक्ति तभी हो सकती है जब व्यक्ति के पास ऐसा गुरु हो जो उसे सही ज्ञान द्वारा अन्धविश्वास और सुविधा या दूसरों से लाभ लेने के लिए बनी मान्यताओं से मुक्त कर सके |

धर्म संसार के लिए है मनुष्य ने अपनी सुविधा के लिए अलग अलग धर्म बनाये है, इसमें व्यक्तिगत, पारिवारिक और सामाजिक धर्म है, इन धर्मों का पालन कैसे करना है यह सिखाना गुरु का कार्य है | आध्यात्म आत्मा के लिए है आत्मा द्वारा किए कर्म का फल कैसा मिलता है और उससे कैसा बचा जा सकता है या बताना और समझाना भी गुरु का ही कार्य है | धर्म और अध्यात्मिक में व्यक्ति का मस्तिष्क बहुत अधिक उलझ चुका है इसलिए वह सही और गलत का निर्णय करने में सक्षम नहीं है इसी कारण उसके मन में अनेकों प्रश्न है जैसे : गुरु की आवश्यकता क्यों है ? गुरु का क्या कार्य है ? गुरु कैसा होना चाहिए ? गुरु कब और कहाँ मिलेगा ? गुरु की पहचान क्या है ? गुरु की महिमा देवी देवताओं से अधिक क्यों है ? गुरु के बिना गति क्यों नहीं है ? इत्यादि |

व्यक्ति के दैनिक जीवन में बहुत सारी ऐसी समस्याएं और परिस्थितियां आती है जिनके समाधान या मार्गदर्शन के लिए उसे एकदम सही उत्तर की आवश्यकता होती है हालांकि अधिकतर उत्तर व्यक्ति को स्वयं पता होते है फिर भी भ्रम और भय की स्थिति में व्यक्ति को किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है जिस पर ईश्वर की कृपा हो, जिसके पास कर्म और कर्मफल को बदलने/बदलवाने का अधिकार हो, जिसे सांसारिक और अध्यात्मिक ज्ञान हो, जिसका अपना कोई स्वार्थ नहीं हो, जो भूतकाल से भविष्यकाल तक को देख सकता हो और उसी अनुसार निस्वार्थ(बिना लालच) ऐसी युति(गुर) सिखाये जिससे उसकी सभी समस्याओं और परिस्थियों पर विजय हो जाए | सच्चा और पूर्ण गुरु वही है जो अपने शिष्य को ऐसी युति(ऐसा गुर) सिखाये जो उसे साकार संसार में और देह छोड़ने के बाद के रहस्मयी संसार में काम आयें |

गुरु की पहचान

गुरु कही भी मिल सकता है, यह आवश्यक नहीं है कि गुरु किसी विशेष वेशभूषा में ही होगा, वेशभूषा का प्रयोग निजी लाभ के लिए मूर्ख बनाने या दिशाहीन करने में भी किया जा सकता है सच्चे गुरु को वेशभूषा या दिखावे में कोई रुचि नहीं होती, ना ही वह अपनी प्रशंसा सुनने का इच्छुक होता है | साधू की वेशभूषा भगवा रंग की होती है इसका अर्थ यह नहीं है कि भगवा पहनने वाले सारे लोग साधू विचारों के होते है इनमे स्वार्थी और कपटी लोग भी हो सकते है | साधू का भगवा रंग धारण करने के पीछे गूढ़ वैज्ञानिक कारण है जिसका स्वयं साधुओं को भी पता नहीं है | सूर्य का रंग भगवा है, प्रात:काल सूर्य उदय होने पर परिवार के सदस्य एक-दूसरे से दूर होने लगते है पति-पत्नी अपनी आजीविका के लिए और बच्चे शिक्षा इत्यादि के लिए बाहर जाते है | सूर्य अस्त के बाद परिवार फिर से घर में एकत्रित हो जाता है, इसका सीधा अर्थ यह हुआ कि सूर्य पारिवारिक सुख से वंचित करता है साधू के भगवा पहनने का अर्थ यह है कि इस व्यक्ति ने पारिवारिक सुखों का त्याग करके भगवा धारण कर लिया है और अब पारिवारिक जीवन नहीं चाहता, बाकि का जीवन सांसारिक वस्तुओं और लोगो से दूर रहेगा | प्राय: लोग आशीर्वाद पाने के लिए साधू को आवश्यकता से अधिक सुविधा उपलब्ध करा कर उनका मन भटकाते है, सुख सुविधा को देखकर सच्चे साधू का मन भी संसार की और आकर्षित होने लगता है,  ऐसा करके वह लोग अपने पाप कर्म की पूँजी जमा करते है क्योंकि सुविधाओं को भोगने पर साधू अपने लक्ष्य से भटक कर निराकार से दूर हो जाता है |

सच्चे गुरु की पहचान का पहला लक्षण यह है कि गुरु किसी वेशभूषा या ढोंग के अधीन नहीं है और उसके चेहरे पर सूर्य के सामान तेज दिखता है और उसकी छठी इंद्री पूर्णत: विकसित होती है जिसके द्वारा वह भूत, वर्तमान और भविष्य को देख पाता है | सच्चा गुरु ज्ञान देने में प्रसन्न होता है ज्ञान को छुपाने वाला या भ्रमित करने वाला सच्चा गुरु नहीं होता | यह बात भी सभी जानते है कि संसार में जीवित रहने के लिए धन की आवश्यकता है, अकारण आवश्यकता से अधिक धन का मांगना गुरु के लालची और स्वार्थी होने का चिन्ह है , गुरु को स्वार्थी होने का अधिकार नहीं है स्वार्थ संसार के लिए है अध्यात्म में स्वार्थ का त्याग होना अति आवश्यक है जिसका सही ज्ञान सच्चे गुरु द्वारा ही मिलता है |

किसी व्यक्ति में गुरु वाले गुण होने के लिए अच्छे कर्मों की पूँजी होना अति आवश्यक है और जब अच्छे कर्मों की पूँजी गुरु के खाते में है तो उसे धन और अन्य सांसारिक वस्तुओं के पीछे भागने की आवश्यकता नहीं होती बल्कि अच्छे कर्मों के प्रभाव से उसकी आवश्यकता के अनुसार वस्तुएँ गुरु तक अपने आप पहुँचती है | जब कर्मों की पूँजी होती है तो व्यक्ति में इतना संतोष और नम्रता आ जाती है कि धन की पूँजी के लिए मन विचलित नहीं होता | गुरु कहलाने के बाद गुरु का यह दायित्व है कि वह अपने शिष्यों और साधारण व्यक्तियों का सही मार्गदर्शन करे यदि गुरु ज्ञान का प्रयोग धन अर्जित करने या किसी निजी स्वार्थ के लिए करता है तो गुरु के लिए क्षमा नहीं होती और उसे साधारण व्यक्ति से सौ गुना अधिक दंड भोगना पड़ता है क्योंकि गुरु को पाप-पुण्य का ज्ञान होता है | साधारण व्यक्ति के गलती करने पर उसके लिए क्षमा का अवसर और विकल्प है परन्तु गुरु जिसे धर्म और आध्यात्म दोनों की समझ है उसके लिए साधारण व्यक्ति से कही अधिक दंड भुगतना पड़ता है क्योंकि उसके पास साधारण व्यक्ति से अधिक ज्ञान है |

गुरु अपने शिष्य को धर्म(सांसारिक नियम) और आध्यात्म(निराकार), दोनों का अंतर और निराकार को समझने का सरल मार्ग भी बताता है, अधिकतर लोग स्वयं को धार्मिक और आध्यात्मिक दोनों समझते है जबकि ऐसा नहीं है | धर्म नियम है जो स्वयं और संसार को व्यवस्थित करने में सहायक होता है, धर्म संसार के लिए है सभी संबंधों के लिए अलग अलग धर्म(नियम) है जैसे गुरुधर्म, शिष्यधर्म, पिताधर्म, माताधर्म, भाईधर्म, बहनधर्म, मित्रधर्म, राजधर्म, मंत्रीधर्म, नागरिकधर्म, इत्यादि इत्यादि |  धर्म (नियम) बहुत सारे है इसलिए व्यक्ति आवश्यकता और विवशता के कारण अपनी सुविधा के अनुसार नियमों और अपनी मान्यताओं को समय समय पर बदलता रहता है जबकि आध्यात्म सभी संबंधों, नियमों से मुक्त होकर निराकार का ज्ञान होने की अवस्था है आध्यात्म का सम्बन्ध आत्मा से है इसलिए इसमें कोई नियम नहीं है, ना ही इसमें कही कोई असुविधा है कि इसको बदलने की आवश्यकता पड़े |

गुरु केवल देने(दूसरो) के लिए है गुरु द्वारा वचन और कर्म व्यक्ति के कल्याण में काम आते है, अपने लिए लेने वाला गुरु नहीं होता, गुरु जिसे सांसारिक वस्तुओं की चाह नहीं होती, गुरु का सम्बन्ध आत्मा से है शरीर से नहीं, जो धन और जाति के कारण भेदभाव नहीं करता | गुरु जो प्रत्येक शिष्य की प्रेम, विश्वास और लगन के अनुसार उसके अध्यात्मिक स्तर को बढाने में सही मार्गदर्शन करता है | गुरु शिष्य के लिए जो कुछ भी करता है उसे कभी भी जतलाता नहीं है, ना ही अपने शिष्य द्वारा प्राप्त किए धन, मन-सम्मान, अध्यात्मिक स्तर का श्रेय लेता है | गुरु अपने शिष्य से ऐसे कर्म करवाता है जो केवल शिष्य हित में होते है, गुरु काअपने  शिष्य के कर्म निजी लाभ के लिए प्रयोग करना वर्जित है |  गुरु की महिमा देवी देवताओं से अधिक है क्योंकि देवी देवता सीमित शक्ति/ कला के मालिक है, जिस व्यक्ति को जैसा चाहिए वह उस शक्ति/ वस्तु के मालिक देवी देवता की उपासना करके अर्जित कर लेता है जबकि गुरु सीधा निराकार से जुड़ा होने के कारण सभी कुछ ठीक प्राप्त करने में सहायक बनता है | साधारण व्यक्ति भी अपने अच्छे कर्मों और निस्वार्थ भावना से गुरु बन सकता है परन्तु यदि शिष्य का लक्ष्य गुरु बनना है तो वह अधूरा गुरु ही बन पता है वह पूरा गुरु नहीं बन सकता | पूरा गुरु का अर्थ है जो निस्वार्थ सब कुछ कर सकता है |

ईश्वर की कृपा और अपने कर्मो की पूँजी के अनुसार गुरु की शक्तियां अपने आप विकसित होने लगती है आध्यात्मिक स्तर बढ़ने के साथ साथ इन शक्तियों का विकास भी होता रहता है, सबसे पहले गुरु में वाकशक्ति/वाक्यशक्ति विकसित होती है वाक्यशक्ति विकसित होने पर गुरु द्वारा कही गयी सभी बाते पूरी होने लगती है | यहाँ तक की किसी व्यक्ति के भाग्य में ना होने वाली वस्तुएँ गुरु के वाक्य/वचन से मिलने लगती है, अनेकों लोगो की संतान होना या ऐसे कार्य होना जिसकी कल्पना भी ना की जा सकती हो, यह वाक्यशक्ति विकसित हो चुके होने का ही लक्षण है | वाक्यशक्ति के बाद गुरु में स्पर्श शक्ति विकसित होती है गुरु के आगे मस्तक झुकाने का एक कारण यह भी है कि गुरु अपने स्पर्श द्वारा मस्तक झुकाए व्यक्ति की सारी नकारात्मकता समाप्त कर देता है , गुरु के शरीर में जो सकारात्मकता संचार कर रही होती है वह व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाती है जिसके परिणाम से ग्रहों का प्रभाव, हानि, दुर्घटना, बुरे कर्मों का फल, शत्रु, बुरी नज़र, भूत-प्रेत इत्यादि से बचाव रहता है |

वाक्यशक्ति और स्पर्शशक्ति का प्रयोग संसार की इच्छाओं की पूर्ती के लिए होता है, लोगों का कल्याण करते करते गुरु में आत्मशक्ति विकसित हो जाती है | आत्मशक्ति संसार के लिए नहीं होती यह अलौकिक शक्ति होती है जो निराकार से जुड़े रहने के काम आती है | किसी चित्र/मूर्ती, नाम/मंत्र, स्थान, विधि इत्यादि पर अधीन ना होकर, खुली आँखों पर भी निराकार से जुड़े रहने की अवस्था को आत्मशक्ति विकसित होना कहते है | आत्मशक्ति का प्रयोग गुरु अपने शिष्यों की परलोक में सहायता करने में करता है | गुरु की मृत्यु के पश्चात, गुरु के स्थान में वह स्पर्शशक्ति और वाक्यशक्ति का प्रभाव रहता है , सच्चे गुरु की मृत्यु के पश्चात उसके स्थान को स्पर्श करने से मन को शांति और सुरक्षा का आभास होता है और वहां पर उच्चारण की जाने वाली सभी बाते पूरी हो जाती है |

वाक्यशक्ति, स्पर्शशक्ति और आत्मशक्ति तीनो होने पर गुरु में त्रिशक्ति होती है जिसके कारण कुछ भी सोचा या कहा गया पूरा होता है, यह त्रिशक्ति देवी देवताओं के पास नहीं होती क्योंकि देवी देवताओं के पास वाक्यशक्ति और स्पर्श्शक्ति को प्रयोग करने के लिए शरीर नहीं होता | देवी देवताओं के पास सीमित अधिकार/ शक्तियां होती है जैसे धन की देवी लक्ष्मी, विद्या  देवी की सरस्वती, ज्ञान के देवता बृहस्पति, इत्यादि देवी देवताओं के पास अलग अलग अधिकार/शक्तियां है | जो कार्य देवी देवताओं की उपासना से भी नहीं हो सकते वह गुरु के एक वाक्य से हो जाते है | इसीलिए कहा जाता है कि गुरु के पास ऐसी चाबी होती है जो हर बंद ताले को खोल सकती है | गुरु की निस्वार्थ भावना के कारणदेवी देवता भी गुरु की कही बात हो नहीं टालते |  जाने अनजाने बहुत से ऐसे कर्म हो जाते है जिसके कारण देवी- देवता, मृत्यु पश्चात भटक रहे पित्र(पूर्वज) और भूत-प्रेत क्रोदित हो जाते है, इन सभी के क्रोध का प्रभाव केवल गुरु के आशीर्वाद और सुदृष्टि से ही समाप्त होता है |

गुरु के पास इच्छा, आवश्यकता या विवशता के समय कर्मों की पूँजी को देने या लेने का अधिकार होता है । किसी व्यक्ति की भक्ति, प्यार, नम्रता, समर्पण इत्यादि से प्रसन्न हो कर भाग्य द्वारा ना मिलने वाली वस्तु को दे देना गुरु की इच्छा पर निर्भर है । सालों बाद किसी गुरु के आशीर्वाद से संतान हो जाना या बीमारी ठीक हो जाना गुरु द्वारा ऐसे कर्म दे देना होता है जो उस व्यक्ति के भाग्य में नहीं होता । किसी व्यक्ति द्वारा अपनी वाणी, भाव इत्यादि द्वारा अपने शुभ कर्मों का दुरूपयोग करने पर गुरु को उसके शुभ कर्मो को लेकर किसी और को देने का अधिकार होता है । सम्पूर्ण गुरु की कृपा या आशीर्वाद से सांसारिक और आध्यात्मिक सभी प्रकार की इच्छाओं को पूर्ण किया जा सकता है । व्यक्ति को समय समय पर गुरु की आवश्यकता इसलिए भी होती है कि गुरु ऐसे गुर सिखाता और बताता है जो पुस्तकों में नहीं मिलते ।

 

कलयुग गुरुओ से भरा पड़ा है परन्तु सही मार्ग दिखने वाले गुरुओं की कमी है, ऐसे में साधारण व्यक्ति के लिए गुरु का चयन करना अति कठिन है | सच्चा गुरु अपना ज्ञान और शक्ति विकसित करने की युति सरलता से अपने शिष्य/ भक्त को नहीं देता, इसका मुख्य कारण यह होता है कि कहीं शिष्य उस ज्ञान का दुरूपयोग निजी स्वार्थ के लिए ना कर ले | गुरु ज्ञान तभी देता है जब उसे यह निश्चित होता है कि उसका शिष्य इस योग्य है कि ज्ञान का दुरूपयोग नहीं होगा और शिष्य को समझ है कि ज्ञान का सदुपयोग कब कितना और कैसे करना है | शिष्य के इस स्तर को बार बार परखने के बाद ही गुरु अपने शिष्य को ज्ञान देता है | शिष्य की परख करने के लिए गुरु कटु वचनों का प्रयोग भी करता है और शिष्य को कठिन और अस्विकारिय कार्य करने को कहता है, यदि शिष्य बिना प्रश्न और संदेह किए गुरु की कसौटी पर खरा उतरता है तो शिष्य को गुरु द्वारा आशीर्वाद और कृपा में ज्ञान मिलता है, गुरु ऐसा ज्ञान देता है जो पुस्तकों और कहानियों में नहीं होता | ज्ञान ऐसे शिष्य को मिलता है जिसमे ज्ञान अर्जित करने की इच्छा, लगन और योग्यता होती है जिन शिष्यों में योग्यता नहीं होती गुरु उन पर समय नष्ट नहीं करता | योग्यता कर्मों के आधार पर होती है, शिष्य में योग्यता होने पर गुरु उस की उन्नति करने का अवसर नहीं छोड़ता | गुरु द्वारा बताये मार्ग पर सभी शिष्य नहीं चलते, अधिकतर लोग अपनी आवश्यकता, सुविधा और परिस्थिति के अनुसार कार्य करते है , जो लोग गुरुमार्ग पर चलते है उन्हें लोक-परलोक में कोई कष्ट नहीं होता |

गुरु द्वारा शिष्य को दिए जाने वाले ज्ञान से ही गुरु के अपने अध्यात्मिक स्तर का पता चल जाता है कि गुरु स्वयं निराकार से कितना जुड़ा हुआ है और उसमे कितनी योग्यता है, सच्चा गुरु आधा-अधूरा ज्ञान नहीं देता वह अपने शिष्य को पूर्ण ज्ञान देता है | शिष्य की अपनी रुचि और योग्यता के अनुसार उसकी अध्यात्मिक उन्नति करना और उसका सही मार्गदर्शन करना गुरु का मुख्य कार्य है | गुरु अपने शिष्य को मन और मस्तिष्क दोनों को काबू करने का गुर सिखाता है जिससे शिष्य सभी प्रकार की परिस्थितियों में भयभीत, भ्रमित या असहाय ना हो, शिष्य में धैर्य और नम्रता किसी विवशता के कारण नहीं हो अपितु यह उसके स्वभाव में हो, शिष्य में प्रशंसा करने और प्रशंसा सुनने की आदत नहीं हो, शिष्य अपने भाग्य पर निर्भर ना होकर अपने कर्म पर ध्यान दे और उसकी कर्मपूँजी इतनी हो की बिना मांगे ही आवश्यकता के अनुसार उसे सब कुछ अपने आप मिलता जाये, शिष्य संसार में रहते हुए भी किसी सांसारिक वस्तु या व्यक्ति से इतना ना जुड़े कि उसके मोक्ष का मार्ग कठिन हो जाए | सांसारिक ज्ञान तो सभी को होता है परन्तु गुरु सांसारिक विपत्तियों के साथ साथ अध्यात्मिक स्तर को विकसित करता है जिसके कारण शिष्य सदैव अपने गुरु का ऋणी रहता है, इस ऋण से मुक्त होने के लिए शिष्य अपने गुरु को गुरुदक्षिणा देता है | गुरु द्वारा मिला ज्ञान अमूल्य होता है फिर भी शिष्य बड़ी श्रद्धा से गुरु को अपनी सामर्थ्य के अनुसार भेंट देता है, कई बार तो शिष्य अपना शेष जीवन ही गुरु की समर्पित करके स्वयं को धन्य समझते है, आज के समय में ऐसे गुरु और शिष्य दोनों की कमी है |

ज्ञान की प्राप्ति से केवल ज्ञानी बना जा सकता है जबकि गुरु के पास आध्यात्मिक ज्ञान होने के साथ साथ देवी देवताओं का साथ और निराकार की कृपा भी होती है | सांसारिक ज्ञान और आध्यात्मिक ज्ञान में बहुत बड़ा अंतर है, ज्ञानी को आध्यात्म का ज्ञान हो यह आवश्यक नहीं है और गुरु को सांसारिक ज्ञान हो यह भी आवश्यक नहीं है | सांसारिक उन्नति के लिए सांसारिक ज्ञान का होना आवश्यक है और आध्यात्मिक उन्नति के लिए अध्यात्मिक ज्ञान होना चाहिए | कभी कभी ज्ञानी केवल ज्ञान तक सीमित रह जाते है क्योंकि उनके पास वो कृपा नहीं होती जिससे वो निराकार के रहस्य को समझ सके | आवश्यकता से अधिक ज्ञान भ्रम का कार्य करता है जो व्यक्ति को निराकार और उसकी कृपा से वंचित रखता है | गुरु के पास कृपा नामक वो चाबी होती है जिससे कोई भी सांसारिक या अध्यात्मिक ताला खुल सकता है | यदि गुरु चाहे तो अपने शिष्य को वह दिव्य चाबी पाने के योग्य बनने का मार्ग बता सकता है | समस्या तब आती है जब व्यक्ति स्वयं ही वह चाबी खोजने या बनाने का प्रयत्न करता है क्योंकि निराकार का नियम है कि कृपा रूपी चाबी केवल गुरु के द्वारा ही मिलती है | आधा अधूरा ज्ञान अंधकार के सामान है जो व्यक्ति को और भ्रमित करता है, ऐसे में कृपा और आशीर्वाद प्रकाश का कार्य करते है | गुरु कितना भी ज्ञान दे वो कम समझना चाहिए क्योंकि जो इतना दे सकता है उसके स्वयं पर कितनी और अधिक ईश्वरीय कृपा होगी | कभी भी यह नहीं समझना चाहिए कि मुझे गुरु ने सारा ज्ञान दे दिया और मुझ पर भी गुरु जितनी ही कृपा हो गयी है |

गुरु द्वारा एक गुप्त ज्ञान यह भी दिया जाता है कि निराकार की कृपा कभी भी दो लोगो पर एक सामान नहीं होती, संसार में दिखने वाला सभी कुछ एक दुसरे से भिन्न है जैसे पहाड़, नदिया, पेड़ पौडे, जीव जंतु इत्यादि | निराकार के स्वभाव में नक़ल करना नहीं है, एक बार जो बन गया वह दोबारा नहीं बनता, मनुष्य ही एक ऐसा प्राणी है जो दूसरों को देख कर आकर्षित होता है और नक़ल करने को विवश हो जाता है |

गुरु और शिष्य का अटूट सम्बन्ध है जो एक बार स्थापित हो जाये तो फिर कई जन्मों तक चलता है, जिस शिष्य के कर्म बहुत अधिक बलवान हों और उन कर्मो का फल अपने आप मिलना हो तो ऐसे शिष्य को ज्ञान देने गुरु स्वयं शिष्य के पास जाते है, जबकि साधारण कर्मों वाले शिष्यों को गुरु की खोज करनी पड़ती है | शिष्य कई प्रकार के होते है इनमे भक्त शिष्य होते है जो गुरु से दूर रहे या पास रहे इनके मन में गुरु के लिए श्रद्धा और भक्ति होती है, ये गुरु के वचनों पर चलना और गुरु की सेवा करके अपना जीवन बिताने को ही सब कुछ मानते है और अपना तन, मन, धन गुरु के लिए लगा देते है, गुरु के साथ या पास रहकर इन्हें अलौकिक आनंद की अनुभूति होती है | ऐसे शिष्यों से गुरु को आत्मिक प्रेम होता है |

कुछ शिष्य चतुर होते है, उन्हें गुरु की याद तभी आती है जब जीवन में कोई समस्या या दुःख हो, काम निकलने पर ऐसे शिष्य गुरु से दूर रहना ही पसंद करते है ऐसे शिष्य सांसारिक सुख सुविधाओं के लिए ही जीते है उन्हें मोक्ष या निराकार में कोई रुचि नहीं होती, ये समझते है कि गुरु थोड़ी सी सेवा करने में ही इनका कल्याण हो जायेगा क्योंकि गुरु ने अपने स्वार्थ के लिए नहीं इनके लिए जन्म लिया है | ऐसे शिष्यों को गुरु केवल सांसारिक वस्तुओं को पाने का मार्ग बताते है |

कुछ अन्य शिष्य ज्ञानी होते है हालाँकि इनकी गिनती बहुत कम होती है जो गुरु की रमज़ को समझते है, जिनको यह ज्ञान होता है कि गुरु के क्रोध या डांट, फटकार में भी उनका क्या लाभ है, ऐसे शिष्य यह जानते है कि गुरु अपने क्रोध या फटकार द्वारा उनके जाने अनजाने हो गए कुकर्मों का प्रभाव समाप्त करने में उनकी सहायता करके उनमे और अधिक अध्यात्मिक विकास होने की योग्यता बना रहे है । ऐसे शिष्यों के अध्यात्मिक विकास के लिए गुरु उन पर अधिक मेहनत करता है |

मोक्ष प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को निराकार का ज्ञान होना आवश्यक है और निराकार का ज्ञान होने के लिए व्यक्ति का अध्यात्मिक होना आवश्यक है, आध्यात्मिक होने के लिए पूर्ण गुरु का आशीर्वाद और कृपा होनी अति आवश्यक है |

|||

मेरे विचार

मोक्ष का ज्ञान तभी हो सकता है जब आत्मा के जन्म का ज्ञान हो |

संसारज्ञान – जीवन से मृत्यु का ज्ञान है और निराकारज्ञान – मृत्यु से जीवन का ज्ञान है |

सच को नहीं झूठ को खोजने का प्रयास करो, यदि झूठ का ज्ञान हो गया तो निराकार का ज्ञान अपने आप हो जाएगा |

जीवन में परिवर्तन चाहते हो तो क्या करना है पर नहीं,  क्या नहीं करना है पर अधिक ध्यान दो |

संसार का सबसे बड़ा अंधविश्वास है की निराकार किसी साकार रूप में मिलेगा |

संसार का सबसे कठिन कार्य अपने मन को समझाना है |

अपने मन को सीखने और खोजने में इतना व्यस्त कर दो कि इसे पाप करने का समय या अवसर ही ना मिले |

अपने मन को इतना टिकाओ कि आँखे खुली होने पर भी ध्यान निराकार में लगा हो |

किसी का मन भटकाना ऐसा पाप है जिसका कोई प्रायश्चित नहीं है |

जो भाग्य में है उसके पीछे भागने की आवश्यकता नहीं है और जो भाग्य में नहीं है उसके पीछे भागने का कोई लाभ नहीं है |

कर्मपूँजी इतनी हो कि बिना मांगे ही सब कुछ मिल सकता हो परन्तु कुछ मांगने की आवश्यकता ना हो |

ईर्ष्या से मुक्त होने के लिए दूसरों के कर्मों पर ध्यान मत दो |

स्वयं की प्रशंसा सुनना, अहंकार को निमंत्रण देना है |

धार्मिक से अध्यात्मिक होने में कई जन्म लगते है, अपनाना धर्म है और त्यागना आध्यात्म है |

ज्ञान होने और कृपा होना दोनों में बड़ा अंतर है |

उस वस्तु के पीछे मत भागो जिसके बिना गुज़ारा चलता है |

सच्चा गुरु वह है जो गुर सिखाए, और सच्चा शिष्य वह है जो गुरु ना बनना चाहे |

किसी के आध्यात्मिक ज्ञान से उसके गुरु के स्तर का पता चलता है |

गुरु के पास वह मास्टर चाबी होती है जो देवी देवताओं के पास भी नहीं होती |

बातें आना और निराकार का ज्ञान होना दोनों में बड़ा अंतर है |

भ्रम और भय से मुक्ति केवल ज्ञान द्वारा होती है |

सही मार्ग दिखाने से बढकर कोई पुण्य नहीं है |

कोई भी कर्म सही या गलत नहीं होता, सही या गलत होते है कर्म के परिणाम |

हे ईश्वर ! मुझे शून्य कर दो, जिसके साथ भी लगूं वह दस गुना बढ़ जाए |

 

Copyright © All Rights Reserved

इस पुस्तक की लिखित सामग्री का प्रयोग जैसे किसी व्यक्ति या किसी संस्था द्वारा छपाई करना, किसी भी प्रकार के प्रचार में प्रयोग करना, विज्ञापन करना, पुन: लिखना, भाषण या प्रवचन में इसकी लिखित सामग्री प्रयोग करना, धन अर्जित करने के लिए प्रयोग करना या किसी भी प्रिंट अथवा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में हिंदी या किसी अन्य भाषा में नक़ल करना कॉपीराइट एक्ट के तहत अपराध है |

Vijay Batra : Karmalogist

Founder : शून्यपंथ – A Spiritual Community.
Chairman : College of Spiritual Education.
Secretary : Serve & Care Charitable Society.
Author of शून्यसंहिता :  विश्व की एकमात्र धर्मरहित आध्यात्मिक संहिता !